Books

Books compiled / written by students.

The responsibility for the content below lies with the respective authors/editors. Where the book is a compilation from the existing Madhyasth Darshan literature, it needs to be appropriately referenced. These books only have general introductory value and the original works by Shri A.Nagraj must be maintained as the reference for Study (adhyayan) |  यहाँ दिए हुए पुस्तक मधयस्थ दर्शन के विद्यार्थियों द्वारा है, जिसकी जिम्मेदारी उन्ही का है  |अपने अध्ययन के लिए ए.नागराजजी द्वारा मूल दर्शन वांग्मय को ही रखें 

1) “सह-अस्तित्ववाद एक परिचय” (दर्शन से संकलन जो प्रथम परिचय के उद्देश्य से है)

2) “सान्निध्य – एक स्मारिका” (श्री ए.नागराजजी के साथ विभिन्न व्यक्तियों के द्वारा हुए संस्मरणों का एक संकलन)

3) “अध्ययन सम्बन्धी संवाद – Set A” (अध्ययन सम्बंधित अप्रकाशित संवादों का संकलन)